Sunday, April 21, 2024
Google search engine
HomeNazmFarar By Sahir Ludhianvi - 2023

Farar By Sahir Ludhianvi – 2023

Farar by Sahir Ludhianvi

अपने माज़ी के तसव्वुर से हिरासाँ हूँ मैं

अपने गुज़रे हुए अय्याम से नफ़रत है मुझे

साहिर लुधियानवी की ये नज़्म को अकसर हम जब बहुत उदास या फिर दर्द मे होते हैं तो पढ़ते हैं, इस नज़्म मे साहिर ने अपने अतीत के बारे मे बताया है और साथ ही साहिर बताते हैं कैसे मोहब्बत मे दिल हारे शख्स को अपनी ख्वाइशों को पीछे छोड़ ज़िंदगी जीनी पड़ती है।
यह नज़्म साहिर की बहुत ही मशहूर किताब तल्खियाँ मे मौजूद है।

About Farar By Sahir Ludhianvi

Sahir Ludhainvi’s most famous Nazm : “APNE MAAZI KE TASAVVUR SE HIRASSAN HOO MAIN”. Farar By Sahir Ludhianvi is nazm introducing the past days of the Sahir Ludhaianvi. It is a sad nazm by  Sahir which is available in the Talkhiyaan Book.

Farar by Sahir Ludhainvi Nazm in Hindi

अपने माज़ी के तसव्वुर से हिरासाँ हूँ मैं
अपने गुज़रे हुए अय्याम से नफ़रत है मुझे
अपनी बे-कार तमन्नाओं पे शर्मिंदा हूँ

अपनी बे-सूद उमीदों पे नदामत है मुझे

 
मेरे माज़ी को अंधेरे में दबा रहने दो
मेरा माज़ी मिरी ज़िल्लत के सिवा कुछ भी नहीं
मेरी उम्मीदों का हासिल मिरी काविश का सिला

एक बे-नाम अज़िय्यत के सिवा कुछ भी नहीं

 
कितनी बे-कार उमीदों का सहारा ले कर
मैं ने ऐवान सजाए थे किसी की ख़ातिर
कितनी बे-रब्त तमन्नाओं के मुबहम ख़ाके

अपने ख़्वाबों में बसाए थे किसी की ख़ातिर

 
मुझ से अब मेरी मोहब्बत के फ़साने न कहो
मुझ को कहने दो कि मैं ने उन्हें चाहा ही नहीं
और वो मस्त निगाहें जो मुझे भूल गईं

मैं ने उन मस्त निगाहों को सराहा ही नहीं

 
मुझ को कहने दो कि मैं आज भी जी सकता हूँ
इश्क़ नाकाम सही ज़िंदगी नाकाम नहीं
इन को अपनाने की ख़्वाहिश उन्हें पाने की तलब

शौक़-ए-बेकार सही सई-ए-ग़म-ए-अंजाम नहीं

 
वही गेसू वही नज़रें वही आरिज़ वही जिस्म
मैं जो चाहूँ तो मुझे और भी मिल सकते हैं
वो कँवल जिन को कभी उन के लिए खिलना था
उन की नज़रों से बहुत दूर भी खिल सकते हैं. 
 

Farar by Sahir Ludhainvi Nazm in English

apne maazi ke tasavvur se hiraasaan houn main
apne guzre hue ayyaam se nafrat hai mujhe
apni bekar tamannaaon pe sharminda houn
apni besood umeedon pe nadaamat hai mujhe

mere maazi ko andhere mein dabaa rahne do
mera maazi meri zillat ke sivaa kuchh bhi nahin
meri umeedon kaa haasil, meri kaavish ka silaa
ek benaam azeeyat ke sivaa kuchh bhi nahin

kitni bekaar umeedon ka sahaaraa lekar
maine aivaan sajaaye the kisi ki Khaatir
kitni berabt tamannaaon ke mubham Khaake
apne Khwaabon mein basaaye the kisi ki Khaatir

mujhse ab meri muhabbat ke fasaane na kaho
mujhko kahne do k main ne unhein chaahaa hi nahin
aur vo mast nigaahein jo mujhe bhool gayin
main ne un mast nigaahon ko saraahaa hi nahin

mujhko kahne do k main aaj bhi jee saktaa houn
ishaq nakaam sahi, zindagi nakaam nahin
unhein apnaane ki khwaaish, unhein paane ki talab
shauq-e-bekaar sahi, sa’i-e-Gham-anjaam nahin

vahi gesoo, vahi nazrein, vahi aariz, vahi jism
main jo chaahoun to mujhe aur bhi mil sakte hain
vo kanval jinko kabhi unke liye khilna thaa
unki nazron se bahut door bhi khil sakte hain

About Sahir Ludhianvi

Sahir Ludhianvi (8 March 1921 – 25 October 1980), Popularly Known By His Pen Name (Takhallus) Sahir Ludhianvi, Was An Indian Poet And Film Song Lyricist Who Wrote Primarily In Urdu In Addition To Hindi. He Is Regarded One Of The Greatest And Revolutionary Film Lyricist And Poet Of The 20th Century India.

Poet
Sahir Ludhainvi
Birth Location :  Ludhiana, India
Birth Date : 8th March 1921
Died on : 25th October 1980

Previous article
Next article
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments